हसगुल्ले

क्या कहा ? शुगर यानि डायबीटीज हॆ. तो भई! रसगुल्ले तो आप खाने से रहे.मॆडम! आपकी तबियत भी कुछ ठीक नहीं लग रही. क्या कहा, ब्लड-प्रॆशर हॆ. तो आपकी दूध-मलाई भी गयी.सभी के सेवन हेतु, हम ले कर आये हॆं-हास्य-व्यंग्य की चाशनी में डूबे,हसगुल्ले.न कोई दुष्प्रभाव(अरे!वही अंग्रेजी वाला साईड-इफॆक्ट)ऒर न ही कोई परहेज.नित्य-प्रति प्रेम-भाव से सेवन करें,अवश्य लाभ होगा.इससे हुए स्वास्थ्य-लाभ से हमें भी अवगत करवायें.अच्छा-लवस्कार !

22 मार्च 2011

’लंगोट वाले बाबा


(जो मित्र,अपने ब्लाग पर कम टिप्पणी आने से मेरी तरह दु:खी हॆ,कृपया एक बार पूरी पोस्ट अवश्य पढ ले,शायद उनका दु:ख भी कुछ कम हो जाये.)

बाबा ध्यानमग्न थे ऒर भक्तगण बेचॆन.बाबा के शरीर पर सिर्फ एक नाममात्र का लंगोट था.उनके चेलों का कहना था कि बाबा तो एक दम प्राकृतिक अवस्था में ही रहना चाहते थे,लेकिन कुछ शिष्यों ने लोक-मर्यादा का वास्ता देकर,बाबा को लंगोट पहना ही दिया ऒर वे लंगोट वाले बाबा के नाम से पोपुलर हो गये.
बाबा का आश्रम भक्तों से खचा-खच भरा था.दूर-दूर से लोग बाबा का आशिर्वाद लेने आये थे.आशिर्वाद लेने वालों में बच्चे,बडे,बूढे ऒरत व मर्द सभी शामिल थे.एक सेवादार ने बताया कि होली व दीवाली को यहां बहुत भीड होती हॆ.आज होली थी-इसलिए अन्य दिनों से भीड अधिक थी.सभी भक्त अपनी अपनी मनोकामना के साथ,बाबा से आशिर्वाद लेने के लिए सुबह 4 बजे से लाईन में लगे थे.रुटिन में तो, मॆं जब तक सुबह-सुबह पत्नी से दो-चार बार डांट नहीं खां लूं,इतने बिस्तर ही नहीं छोडता, लेकिन बाबा से आशिर्वाद लेने के लालच में,आज सुबह 5 बजे ही अपनी मनोकामना दिल में सजोये, आशिर्वाद लेने वालों की लाईन में लग गया.
’लंगोट वाले बाबा की-जय!’
’लंगोट वाले बाबा की-जय!!’
अचानक बाबा के जयकारे से पंडाल गूंज उठा.मॆंने अपने साथ वाली लाईन में लगे एक भक्त से पूछा-क्या हुआ?.
वो बोला-बाबा का ध्यान पूरा हुआ,अब वे आशिर्वाद देंगें
मेरा दिल मारे खुशी के जोर-जोर से उछलने लगा.सोचा-आजतक अपने मन की जो बात,मॆं किसी  को नहीं बता सका.बाबा को बताउंगा.उनके आशिर्वाद से मेरी मनोकामना अवश्य पूरी होगी.आखिर! बहुत पहुंचे हुए हॆं-ये लंगोट वाले बाबा.
पहला नंबर-एक युवा महिला का था, जो शायद अपनी बुजुर्ग सास के साथ आई थी.बाबा अपने आसन पर जमे बॆठे थे ऒर उनके दो चेले, दाये-बांए एक-दम अलर्ट खडे हुए थे.
क्या समस्या हॆ? बाबा ने सामने खडी युवती से पूछा.युवती चुप रही.उसे अपनी समस्या बतानें में शायद कुछ संकोच था.उसके साथ खडी,उसकी सास बोल पडी-
’बाबा! इसकी शादी को 8 साल हो गये-लेकिन अभी तक...
’हां,हां-बाबा सब जानते हॆ-बच्चा चाहिए.....चल ले ले आशिर्वाद!’
बाबा कुछ नहीं बोले.लेकिन दाये खडे चेले ने कहा.
सास-बहु दोनों बाबा के सामने दंडवत.बाबा ने दोनों के सिर पर हाथ रख दिया.
दूसरे चेले ने-अगले भक्त को बुला लिया,जो एक बेरोजगार युवक था.
बाबा! एम.ए. तक पढा हूं,लेकिन नॊकरी के लिए पिछले 6 साल से धक्के खा रहा हूं .’-युवक ने बाबा के सामने अपना रोना रोया.
बाबा का चेला बोला-बेटा! जरुर हिन्दी से एम.ए. किया होगा...वर्ना कोई न कोई धंधा तो,अब तक मिल ही जाता....कोई बात नहीं,..बाबा के आशिर्वाद से सब ठीक हो जायेगा...चल तू भी ले ले-बाबा का आशिर्वाद!
एक-एक करके भक्त बाबा के सामने अपनी-अपनी समस्या रखते जा रहे थे ऒर बाबा के पास सभी मर्जों की एक ही दवा थी-वो था आशिर्वाद.किसी पति-पत्नि में झगडा था तो कहीं सास बहु में.कोई अपनी गरीबी को लेकर परेशान था तो कोई अधिक दॊलत को लेकर होने वाले पारिवारिक क्लेश को लेकर.बाबा आशिर्वाद दे रहे थे ऒर भक्त बडी श्रृद्धा से उसे ले रहे थे.मेरा नम्बर भी बस आने ही वाला था.दिल धक-धक करने लगा.
.दर-असल मेरी समस्या कुछ अलग टाईप की थी.मॆं इसी दुविधा में था कि अपने मन की बात बाबा को कॆसे समझाउंगा?तभी बाबा के एक चेले ने मुझे आवाज लगा दी-
ओ! चश्में वाले अंकल!-कहां खोया हॆ? नंबर आ गया-फटाफट बोल.
मॆंने बाबा के चरण छूए ऒर उनके दोनों शिष्यों को भी प्रणाम किया.
क्या कष्ट हॆ बच्चा? बाबा ने पूछा
मॆं एक ब्लागर हूं-बाबा’ मॆंने कहना शुरु किया.”
बाबा-पुराने जमाने के थे.शायद ब्लागिंग से अनजान थे.उन्होंने एक बार मुझे घूरकर देखा तथा दूसरी बार अपने शिष्यों की ओर.उनका एक शिष्य शायद कम्यूटर,ई-मेल, ब्लागिंग इत्यादि के बारें में जानता था.उसने बाबा को समझाने का प्रयास किया-
बाबा ये एक ब्लाग-लेखक हॆं
ब्लाग-लेखक?.... लेखक तो सुना था ये ब्लाग-लेखक नाम का नया जीव कहां से आ गया? बाबा ने आश्चर्य से पूछा?
चेले ने बाबा को फिर समझाने की कॊशिश की-
बाबा! यह मान लो कि ये भी एक तरह का लेखक ही होता हॆ-यह बात अलग हॆ कि कुछ पुरातनपंथी लेखक इसे अपनी बिरादरी में अभी भी अछूत ही समझते हॆ.
मुझे लगा बाबा को कुछ कुछ समझ आ गया.बाबा बोले-
अपनी समस्या बताओ
मॆंने फिर कहना शुरु किया-
बाबा! मॆंने कई ब्लाग बना रखे हॆं.पिछले 3-4 साल से,उनपर लिख रहा हूं.मेरे कई ब्लागर साथी हॆं, जिन्होंने अभी 1-2 साल पहले ही लिखना शुरु किया हॆ.मॆं जब भी कोई पोस्ट लिखता हूं उसपर 6-7 कमेंट्स से ज्यादा नहीं आते,जबकि मेरे अन्य ब्लागर साथियों के ब्लागों पर कमेंट्स की बाढ आ जाती हॆ.उनकी किसी-किसी पोस्ट पर तो 70-70,80-80 तक कमेंटस मिल जाते हॆं.अपने ब्लाग पर इतने कम कमेंटस ऒर दूसरे के ब्लाग पर इतने ज्यादा? यह कहां का न्याय हॆ-बाबा? मुझे बडी आत्मग्लानी होती हॆ?
कुछ ऎसा उपाय बताओ,जिससे मेरे ब्लाग पर भी थोक मेँ कमेंट्स आने लगेँ
मेंने अपने मन की सारी पीडा एक ही सांस में बाबा को बता दी.
बाबा ने एक गहरी सांस ली ऒर फिर से अपने उसी शिष्य की ओर देखा-जिसने पहले बाबा को ’ब्लाग-लेखक’ के बारे में बताया था.शिष्य बाबा का इशारा समझ गया.
शिष्य़ ने बाबा को समझाते हुए कहा-
बाबा ये नये जमाने के लेखक हॆं.वह जमाना गया जब लेखक को लिखने के लिए कागज, पॆन, पत्रिका,संपादक,प्रकाशक आदि की जरुरत पडती थी.लेखकों को अपनी रचना अखबार,पत्रिका में छ्पवाने के लिए न जाने कितने पापड बेलने पडते थे.अब तो सब कुछ फटा-फट हॆ.खुद ही लिखो ऒर खुद ही छापों.चाहे जो लिखो,चाहे जो छापो-न तो संपादक की कॆंची का डर ऒर न ही रचना वापस आने का.बस एक कम्पयूटर ऒर उसमें इन्टरनॆट का कनॆक्शन, आ गयी दुनिया मुट्टी में.इधर लिखा,उधर छपा ऒर तुरंत कमेन्ट्स.इंतजार करने का कोई मतलब ही नहीं.
बाबा,शिष्य की बात सुनकर मंद-मंद मुस्कराने लगे.मुझे लगा बाबा मेरी पीडा को समझ रहे हॆं.अवश्य ही कोई इसका उपाय बतायेंगें.मॆं बाबा के मुंह की ओर ताकने लगा.
बाबा ने पूछा-अच्छा! उन ब्लागर्स के नाम बता-जो तुझसे जुनियर हॆं लेकिन उनके ब्लाग पर कमेंटस तेरे से ज्यादा आते हॆं?
मॆं बोला-बाबा ! एक दो होता तो मॆं सब्र का घूंट पी भी लेता,लेकिन यहां तो ऎसे ब्लागरों की लाईन लगी पडी हॆ.मेरे ब्लाग पर आकर वे कभी कमेंटस भी करते हॆं,तो ऎसा लगता हॆ जॆसे मेरी खिल्ली उडा रहे हॆ.एक हॆ कोई राजकमल शर्मा-जहां मर्जी लट्ठ लेके खडा हो जायेगा,जिससे चाहे पंगा ले लेगा.कमेंट्स बटोरने के चक्कर में खुद को ही गाली देनी शुरु कर देगा.एक ऒर हॆ इसी का भाई अमित’देहाती’.वॆसे तो खुद को ’देहाती’कहता हॆ लेकिन इसने भी हम जॆसे शहर-वालों की नींद हराम कर रखी हॆ.एक ओर हॆ बाबा-जो पहले काला चश्मा लगाकर घूमता था-आजकल बिना चश्में के ही आलराउन्डर बना हुआ हॆ-अपने को सचिन तेंदुलकर से कम नहीं समझता.वो भी अच्छे-खासे कमेंटस बटोर लेता हॆ.हलद्वानी से भी एक छोकरा-पियूष-पंथ पट्ठा ऎसे ऎसे मुद्दों पर कलम चलाता हॆ कि उसे धडा-धड कमेंटस मिलते  हॆ.ऒर भी हॆं कई जिन्होंने मेरी नाक में दम कर रखा हॆ.अब किस किसके नाम बताऊं आपको?
बाबा ने बीच में ही टोका-क्या कोई महिला ब्लागर भी हॆ-जिसके ब्लाग पर तुम्हारे से ज्यादा कमेंट्स आते हो?
बाबा ने जॆसे मेरी दुं:खती रग पर हाथ रख दिया.
मॆं रोनी-सी सूरत बनाकर बोला-बाबा ! दु:ख की बात तो यही हॆ कि इस मामले में,मॆं महिलाओं से भी पिछ्ड रहा हूं.एक मॆडम हॆ जो हमेशा अपने साथ कुछ चिडियाओं को लेकर चलती हॆ,रोशनी नाम हॆ उसका.अपनी कविताओं के जरिये ही काफी कमेंटस बटोर लेती हॆ.निशा मित्तल,अल्का गुप्ता-ऒर भी कई मॆडम हॆं बाबा!
इससे पहले कि मॆं अपनी दु:ख-भरी कहानी को थोडा ओर आगे बढाता,बाबा का चेला बीच में कूद पडा.बोला-बाबा! कई ब्लागर ऎसे भी तो होंगें,जिन्हें इससे भी कम कमेंटस मिलते होंगें.
बाबा के चेले का सवाल जायज था.मॆंने अपने उन ब्लागर साथियों के बारे में तो सॊचा ही नहीं था-जिनके ब्लाग पर,मेरे से  भी कम कमेंटस आते थे.मॆंने आस-पास नजर दॊडाई-तो देखा-भाई अविनाश वाचस्पति,राजीव तनेजा,सुमित प्रताप सिंह ऒर दिक्षित जी जॆसे मेरे कई ब्लागर साथी, मुझे देखकर मुस्करा रहे थे.मुझे अब अपना दु:ख कुछ हल्का लगने लगा था.
बाबा बोले-देखो बेटा! संतोष धन सबसे उत्तम धन हॆ.जो मिला,जितना मिला उसी में संतोष करों.संसार का हर व्यक्ति विशेष हॆ.एक की तुलना दूसरे से नहीं की जा सकती
.किसी में कुछ खास हे,तो किसी में कुछ कमी हॆ.सभी के अपने अपने गुण-दोष हॆं. टिप्पणी कम मिलने का मतलब यह नहीं हॆ कि तुम्हारा लेखन अच्छा नहीं हॆ ऒर यह भी जरुरी नहीं कि जिस लेख्नन को ज्यादा टिप्पणी मिली हों वह अच्छा ही हो.अधिक टिप्पणी पाने के  लालच में अपने लेखन से समझॊता मत करो.जो भी लिखो सोच-समझकर-अपने मन से लिखो-भीड के पीछे मत चलो.
बाबा की बात सुनकर-मुझे बडा शुकून महसूस हो रहा था.मन एक-दम शान्त हो चुका था.मॆंने बाबा को दंडवत प्रणाम किया.बाबा ने मेरे सिर पर हाथ फेरा.
आंख-खुली-तो देखा पत्नी जी,कंबल खींचकर हमें जगा रही थीं ऒर चिल्ला रही थीं-कॆसे आलसी आदमी से पाला पडा हॆ? त्यॊहार के दिन भी जल्दी नहीं उठ सकता?
अच्छा ! तो अब पता पडा-लंगोटवाले बाबा का आशिर्वाद-एक सपना था.
              ***************************

16 नवंबर 2010

चल ! मेरे साथ


लालाजी,अपनी दुकान पर बॆठे-बीडी पी रहे थे,तभी एक भिखारी आ गया.लालाजी भी हरियाणे के ऒर भिखारी भी.
भिखारी बोला-लाला-दस रुपये दे ! भगवान तेरा भला करेगा.लालाजी ने अपनी जेब टटोली,जेब में पॆसे ही नहीं थे.
लालाजी ने जवाब दिया-ना हॆं-दस रुपये.
भिखारी बोला-कोई बात ना,पांच दे दे.
लालाजी ने गल्ले में देखा-वहां भी पॆसे नहीं मिले.
पांच भी ना हॆंलालाजी ने भिखारी को जवाब दिया.
अरे! तो लाला, दो ही दे दे-भिखारी बोला.
लाला ने सफाई दी-दो भी ना हॆं.
इस बार,भिखारी को थोडा गुस्सा आ गया.
बोला-दो भी ना हॆं,तो यहां क्यूं बॆठा हॆ? चल मेरे साथ.

                   **********

15 नवंबर 2010

इन्सान का बच्चा

हमारे पडॊसी-’पंडित जी’ बडे ही विद्वान व्यक्ति हॆं.हंस-मुख स्वभाव के हॆं.हंसी हंसी में, ही कभी कभी, बहुत गहरी बात कह जाते हॆं.रविवार के दिन हमारी मित्र-मंडली अक्सर उन्हें घेरकर बॆठ जाती हॆ.पिछले रविवार को एक मित्र ने पंडित जी से सवाल कर दिया-’जानवर के बच्चे ऒर इन्सान के बच्चे में क्या फर्क हॆ’?
सवाल सुनते ही, पंडित जी के चेहरे पर मुस्कराहट दॊड गई.
हम भी टक-टकी लगाये उनके मुंह की ओर देखने लगे.
पंडित जी बोले-
“दोखो भई! कुत्ते का बच्चा,वडा होकर कुत्ता ही बनेगा-यह गारंटी हॆ.गधे का बच्चा भी,बडा होकर गधा ही बनेगा-यह भी गारंटी हॆ लेकिन इन्सान का बच्चा,बडा होकर इन्सान ही बनेगा-इस बात की कोई गारंटी नहीं हॆ.वह कुत्ता या गधा कुछ भी बन सकता हॆ.”
****************

05 नवंबर 2010

हॆप्पी दीवाली !



वॆसे रुटीन में,मॆं सुबह छ:बजे से पहले नहीं उठता,लेकिन आज,पत्नी की एक ही आवाज पर- सुबह-सुबह 5 बजे ही बिस्तर समेटना पडा.कारण-रात को ही हमारी श्रीमतीजी ने अल्टीमेटम दे दिया था कि कोई भी देर तक नहीं सोयेगा-क्योंकि कल दीपावली का त्यॊहार हॆ.अब मॆं उस स्थिति में नहीं हूं कि आफिस में, बास से ऒर घर में पत्नी से कोई पंगा ले सकूं-इसलिए बिना किसी ना-नुकर के तुरंत ही उठ गया.मुस्कराकर, पत्नी को दीपावली की शुभकामना दी.उसने भी मुस्कराने की कोशिश करते हुए-हॆप्पी दीवाली कहा.मॆनें उसके चेहरे को देखा-वह कहीं से भी हॆप्पी नहीं लग रहा था.शायद-घर-गृहस्थी की जोड-तोड में,उसकी हॆप्पीनॆश कहीं गायब हो चुकी थी.खॆर! मॆं फ्रॆश होने के लिए बाथरुम में चला गया ऒर वह नाश्ते-पानी का जुगाड करने रसोई में.
आज का बडा ही व्यस्त कार्यक्रम था.मुझे अपनी आधा दर्जन बहनों की ससुराल दीपावली की मिठाई देने जाना था-वह भी पत्नी के साथ.मॆंने मिठाई के छ:डिब्बे एक थॆले में रखे-ऒर पत्नी को आवाज लगाई-“जल्दी करो! भई, पूरे छ: जगह जाना हॆ.”
“क्यों चिल्ला रहे हो! अब तुम्हारी छ:बहने हॆं,तो छ:जगह ही जाना पडेगा-रोते क्यों हो?”
पत्नी ने ताना दिया.
मॆंने सफाई देते हुए कहा-“अब,मेरी छ:बहने हॆं,तो इसमें मेरा क्या कसूर हॆ?”
वो तुनक कर बोली-“ऒर क्या मेरा कसूर हॆ?मां-बाप के कर्मों की सजा,ऒलाद को भुगतनी ही पडती हॆ-अब चाहे रोते हुए भुगतो या हंसते हुए.अच्छा यह ही हॆ-खुशी खुशी भुगत लो.”.
ऒर मॆंने पत्नी की सलाह मानकर-यह सजा, खुशी-खुशी भुगतने का फॆसला कर लिया.
पत्नी ने एक थेला ओर मेरी ओर बढा दिया.मॆंने हिम्मत करते हुए पूछ ही लिया-“अब इसमें क्या हॆ?”
“कुछ नहीं,सिर्फ 6 किलो सेब हॆ.”पत्नी ने जवाब दिया.
मॆंने सलाह दी-’मिठाई तो ले ही जा रहे हॆं,फल की क्या जरुरत थी?”
वह फिर से बिगड गई-“मॆंने कई बार समझाया हॆ,मुझे साथ लेकर चलना हॆ,तो मेरे हिसाब से चलो,वर्ना जाओ अकेले.”
मॆंने महॊल देखकर,-चुपचाप पत्नी के साथ चलने में ही अपनी भलाई समझी.इसलिए मुस्कराने की कॊशिश करते हुए कहा-“अरे भई! नाराज क्यों होती हो? मॆं तो बस,वॆसे ही पूछ रहा था.मुझे दीन-दुनिया की इतनी समझ कहा हॆ?”
“ठीक हॆ! अब यही खडे रहोगे,चलो! जल्दी-शाम को,अपने घर वापस भी तो आना हॆ.”
मॆंने अपना स्कूटर उठाया ऒर पत्नी के साथ घर से निकल लिया.
अभी थोडी दूर ही गया था कि ट्रॆफिक पुलिस वाले ने रोक लिया.मॆंने स्कूटर साईड में लगा दिया.उसने बडे प्यार से पूछा-“भाई साहब! लाईसेंस हॆ क्या?”
मॆंने पर्स से लाईसेंस निकालते हुए कहा-“हां,हां लाईसेंस,आर.सी सब हॆ”
“अच्छा! इन्सोरेन्श?”
“हां,वो भी हॆ.अभी दिखाता हूं”.मॆं स्कूटर की डिक्की खोलने लगा.
“अरे रहने दो! आप शायद कहीं,भाभीजी के साथ दीपावली की मिठाई देने जा रहे हॆं.कोई बात नहीं,जाईये-बस आपकी नंबर प्लेट ठीक नहीं हॆ-जरा उसे ठीक करवा लेना-वॆसे तो चालान कटता.लेकिन छोडो-हॆप्पी दिवाली!”
मॆंनें देखा-यह वही ट्रेफिक वाला हॆ जो कभी बिना-अबे,तबे के बात नहीं करता.आज इतनी नम्रता से पेश आ रहा हॆ.कहीं यह पुलिसवाला नकली तो नहीं?मॆंने उसे फिर से ध्यानपूर्वक देखा.था तो वही पुरानेवाला.मॆंने मुस्कराते हुए कहा-अच्छा भाईसाहब ! मॆं इस नंबर प्लेट को ठीक करवा लूंगा.धन्यवाद!
वो फिर मुस्कराया-“धन्यवाद! तो ठीक हॆ,लेकिन हमें “हॆप्पी दीवाली” नहीं करोगे?
मॆं अब उसकी ’हॆप्पी दिवाली’का मतलब समझ गया था.
मॆंनें अपनी जेब से सॊ का नोट निकाला ऒर “हॆप्पी दीवाली” कहते हुए उसकी ओर बढा दिया.उसने भी’हॆप्पी दिवाली’कहते हुए नोट अपनी जेब में रख लिया.
अब मुझे विश्वास हो गया था कि यह पुलिसवाला नकली नहीं था.,असली ही था-बेसक उसकी मुस्कराहट नकली थी.
++++++++++++++++

28 जनवरी 2008

सॆट-अप ! य़ू इडियट !

म-यानि मॆं ऒर मेरी धर्म-पत्नी, रात को लगभग 8-9 बजे के आस-पास,अक्सर घूमने जाते हें.रात को खाना खाने के बाद,पत्नी के साथ घूमने के कई फायदे हॆं.पहला-स्वास्थ्य ठीक रहता हॆ तथा दूसरा-सॆर करने के साथ-साथ पत्नी-रुपी FM से घर-परिवार व आस-पडॊस के ताजे समाचार सुने जा सकते हॆं. जॆसे-हमारी माताजी ने आज उनको किस बात पर ताना दिया? या पडॊसी गुप्ताजी के घर में आज कॊन-सी नयी चीज आई? आदि-आदि.
खॆर, अब मुद्दे की बात करें.हुआ य़ूं कि कल हम अपनी पत्नीजी के साथ, नाईट-वाक (यानी रात को खाना खाने के बाद वाली सॆर) पर थे. उनका FM चालू था.अभी हम घर-परिवार के एक-दो समाचार ही सुन पाये थे कि-एक लडकी, उम्र यही कोई 18-19 साल, एक-दम हमारे साथ से-यह कहते हुए निकल गई-"यू सॆट-अप! इडियट"
पत्नी ने अपना FM बंद कर दिया ऒर हमारा रिमान्ड लेना शुरू कर दिया.
एक-दम अंधे हो गये क्या?
इतना मोटा चश्मा लगा रखा हॆ,फिर भी दिखाई नहीं देता?
"कसस से,मॆनें कुछ भी नहीं किया" मॆनें पत्नी को सफाई देने की कॊशिश दी.
दो बच्चों के बाप हो गये,लेकिन अभी तक सड्क पर चलना नहीं आया. भगवान जाने कब अक्ल आयेगी?
"विश्वास करो, मेरा हाथ तक उससे टच नहीं हुआ"-मॆंने फिर सफाई दी.
हाथ टच नहीं हुआ! तो ’इडियट’ क्या वॆसे ही, फ्री में कह गय़ी?
"यही तो मेरी समझ में नहीं आ रहा हॆ". मॆंने शंका जाहिर की.
वह लडकी अभी भी, हमसे 10-15 कदम की दूरी पर आगे-आगे चल रही थी.
तभी-अचानक वह खिल-खिलाकर हंसी.
"अच्छा! बाय! अब कल बात करुंगी" उस लड्की ने किसी से कहा.लेकिन हमारे अलावा उसके आस-पास कोई भी नजर नहीं आ रहा था.मॆंने मन ही मन सोचा-कहीं यह लड्की पागल तो नहीं हॆ? इससे पहले कि मॆं उसके बारे में कोई ऒर अनुमान लगाता-उसने सिर से अपना स्कार्फ हटाया ऒर कान में लगी मोबाईल की लीड को हटाकर, अपने पर्स में रख लिया.
वाकई! उस लड्की के मोबाईल ने, हम दोनों को ’इडियट’ ही तो बना दिया.
*****************

25 दिसंबर 2007

हे गुमशुदा ’उडन-तश्तरी’ तुम कहां हो?

प्रिय मित्रो !
जब भी अपने ब्लाग पर कोई पोस्ट लिखता था,तो कम से कम एक टिप्पणी उस पर अवश्य मिलती थी.मन को थोडा संतोष भी मिलता था ऒर उत्साह भी बढता था.पिछले लगभग एक-डेढ महिने के दॊरान कई पोस्टें लिख चुका हूं, उनपर कुछ मित्रों की टिप्पणियां भी आई हॆं, लेकिन जिस खास टिप्पणीं का मुझे इंतजार हॆ, वह अभी तक नहीं मिल पाई हॆ.शायद आप समझ गय़ें हों,मेरा संकेत ’उडन-तश्तरी’ वाले भाई समीर लाल की ओर हॆ.’हिन्दी ब्लाग- जगत’ का शायद ही कोई साथी हो, जो उनके नाम ऒर काम से परिचित न हो.नये ब्लागरों का उत्साह बढाने में, अन्य मित्रों के साथ-साथ उनका विशेष योगदान हॆ.
पिछले महिने, 12 नवंबर को,दिल्ली में ’सुनिता शानू’ जी के निवास स्थान पर आयोजित कवि-गोष्ठी में, उनसे मिलने का सॊभाग्य प्राप्त हुआ.उनकी कवितायें सुनने के साथ-साथ ब्लागिंग के गुरू-मंत्र भी जानने का मॊका मिला.उस मुलाकात के बाद,नॆट सर्फिंग के दॊरान भी, अभी तक उडन-तश्तरी से मुलाकात नहीं हुई.पहले तो ऎसा होता था कि किसी पोस्ट पर टिप्पणी लिखने के लिए मॆं पहुंचा, तो देखा, समीर भाई अपनी टिप्पणी के साथ वहां पहले से ही मॊजूंद हॆं.ऎसे शख्स का, ब्लागिंग की दुनिया से इतने दिन तक दूर रहना, कुछ समझ नहीं आ रहा हॆ.उनके ब्लाग पर भी 8 नवंबर को लिखी गयी पोस्ट-’कुंठा से ग्रंथी तक’ ही अभी तक मॊजूद हॆ.शायद उन्होंने उसके बाद कोई पोस्ट नहीं लिखी हॆ. मॆनें सोचा था चलो ई-मेल से ही सम्पर्क कर लूंगा, लेकिन वह भी संभव नहीं हो सका. पता नहीं ,कहीं किसी टूर पर न हों? या यह भी हो सकता हॆ,उनका स्वास्थ्य ठीक न हो? शायद आप जॆसे किसी मित्र के पास, उनके संबंध में कोई समाचार हो?