क्या कहा ? शुगर यानि डायबीटीज हॆ. तो भई! रसगुल्ले तो आप खाने से रहे.मॆडम! आपकी तबियत भी कुछ ठीक नहीं लग रही. क्या कहा, ब्लड-प्रॆशर हॆ. तो आपकी दूध-मलाई भी गयी.सभी के सेवन हेतु, हम ले कर आये हॆं-हास्य-व्यंग्य की चाशनी में डूबे,हसगुल्ले.न कोई दुष्प्रभाव(अरे!वही अंग्रेजी वाला साईड-इफॆक्ट)ऒर न ही कोई परहेज.नित्य-प्रति प्रेम-भाव से सेवन करें,अवश्य लाभ होगा.इससे हुए स्वास्थ्य-लाभ से हमें भी अवगत करवायें.अच्छा-लवस्कार !

16 नवंबर 2010

चल ! मेरे साथ


लालाजी,अपनी दुकान पर बॆठे-बीडी पी रहे थे,तभी एक भिखारी आ गया.लालाजी भी हरियाणे के ऒर भिखारी भी.
भिखारी बोला-लाला-दस रुपये दे ! भगवान तेरा भला करेगा.लालाजी ने अपनी जेब टटोली,जेब में पॆसे ही नहीं थे.
लालाजी ने जवाब दिया-ना हॆं-दस रुपये.
भिखारी बोला-कोई बात ना,पांच दे दे.
लालाजी ने गल्ले में देखा-वहां भी पॆसे नहीं मिले.
पांच भी ना हॆंलालाजी ने भिखारी को जवाब दिया.
अरे! तो लाला, दो ही दे दे-भिखारी बोला.
लाला ने सफाई दी-दो भी ना हॆं.
इस बार,भिखारी को थोडा गुस्सा आ गया.
बोला-दो भी ना हॆं,तो यहां क्यूं बॆठा हॆ? चल मेरे साथ.

                   **********

2 टिप्‍पणियां:

Poorviya ने कहा…

bilkul sahi kaha .

M VERMA ने कहा…

गलत क्या कहा ..
ये बताया नहीं कि वह साथ गया कि नहीं